(25+ tips) SEO friendly article kaise likhe, SEO friendly पोस्ट कैसे लिखें?

(25+ tips) SEO friendly article kaise likhe, SEO friendly पोस्ट कैसे लिखें?

SEO friendly article कैसे लिखे ताकि हमारे भी blog post Google के first page पर rank कर सके दोस्तों SEO friendly article लिखने को लेकर लगभग-लगभग ज्यादातर blogger को सबसे बड़ी दिक्कत इसी topic पर आती है कि वह अपने वेबसाइट में SEO friendly article कैसे लिखे जो कि आसानी से Google में rank कर सके अगर आपकी भी same समस्या है तो आज का यह आर्टिकल आपके लिए ही है क्योंकि आज मैं आपको Google के terms and condition के साथ SEO friendly article कैसे लिखें की पूरी जानकारी लेकर आया हूं जिसे जानना किसी भी blogger के लिए बहुत ही आवश्यक है।

SEO friendly article कैसे लिखें
SEO friendly article कैसे लिखें?

SEO friendly blog post लिखना एक तरह का order को Fallow करने जैसा ही है जिसमें आपको Google के terms and condition उसको fallow करते हुए अपने blog में artical लिखने हैं अगर आप Google के terms and condition को Fallow करके आर्टिकल लिखेंगे तो आपकी भी blog post Google के first page पर rank करेगी इसलिए SEO friendly article कैसे लिखें इस आर्टिकल को पूरे detail में पढ़ ले ताकि आप भी अपने ब्लॉग पोस्ट के लिए आसानी से SEO friendly article लिख सके और Google के first page पर अपने blog post को rank करा सके।

SEO friendly article लिखने के लिए से पहले आपको SEO के बारे में पूरी जानकारी प्राप्त करनी पड़ेगी अगर आपको SEO नहीं पता है तो आप इस SEO friendly article कैसे लिखेंगे अगर आप SEO के बारे में जानना चाहते हैं तो नीचे में एक लिंक दे  दूंगा जहां पर आप को SEO के बारे में पूरी जानकारी मिल जाएगी वैसे SEO का full form होता है Search engine optimisation मैं आपको इस SEO के बारे में ज्यादा कुछ नहीं बताऊंगा आज मैं आपको SEO friendly article लिखने के बारे में पूरी जानकारी दूंगा।


SEO friendly article kaise likhe. SEO friendly blog पोस्ट कैसे लिखें।


 दोस्तों SEO friendly blog post लिखने के लिए आपको SEO की जानकारी होना बहुत ही आवश्यक है तभी आप SEO friendly article लिख पाएंगे,इसलिए मैं आपको SEO के बारे में थोड़ी बहुत जानकारी दे देता हूं उसके बाद फिर मैं आपको SEO friendly article कैसे लिखे की जानकारी दे दूंगा।


दोस्तों SEO दो प्रकार के होते हैं।



दोस्तों on page SEO वैसा SEO होता है, जो कि आप अपने Blog post के page पर करते हैं, जिसकी जानकारी मैं अभी पूरे artical में दूंगा अगर आपने on page SEO complete कर लिया इसका मतलब यही होता है कि आपने SEO friendly blog post लिख लिया है।

Off page SEO बहुत ही अधिक जरूरी है किसी भी Blog post को rank करने के लिए और SEO जो की पूरी तरह से Backlink पर ही निर्भर करती है, उसको भी करना बहुत जरूरी है अगर आपको off page SEO के बारे में नहीं पता है तो मैं आपको off page SEO के बारे में पूरी जानकारी देने के लिए नीचे एक link दे देता हूं।

अपने website को first page पर लाने के लिए आपको backlink भी बहुत जरूरी है बनाना अगर आपको backlink बनाने के बारे में नहीं पता है और आपको यह भी पता नहीं कि backlink होता क्या है तो उसके लिए भी मैं आपको नीचे एक link दे दूंगा जिस पर click करके आप Backlink के बारे में भी पूरी जानकारी प्राप्त कर लें तभी आपका blog post first page पर rank करेगा।

तो दोस्तों मैंने shot में आपको SEO के बारे में जानकारी दे दी है अब मैं आपको SEO friendly article लिखने के बारे में बताऊंगा ताकि आपको भी SEO friendly article लिखने आ जाए।


26 tips to SEO friendly article kaise likhe.


दोस्तों अब मैं आपको SEO friendly post लिखने के बारे में कुछ महत्वपूर्ण tips देने वाला हूं जिनको जानना किसी भी ब्लॉगर के लिए बहुत ही आवश्यक है अगर हमारे बताए गए point को ध्यान में रखकर अपना content लिखेंगे और अपने आर्टिकल में उन सभी point को denote करके आर्टिकल में apply करेंगे तो आपकी post SEO friendly article बन जाएगी जिससे कि आप की भी कोई भी आर्टिकल आसानी से Google के first page par index होने लगेगी।

दोस्तों वैसे तो बहुत सारे point हैं SEO friendly article लिखने के लिए मगर आज मैं आपको कुछ महत्वपूर्ण points कोई बताऊंगा जो कि SEO friendly post लिखने के लिए सबसे महत्वपूर्ण माना गया है बिना समय बर्बाद करें हम जानते हैं 26 महत्वपूर्ण जानकारी SEO friendly article लिखने के संबंध में।


टेक्नोलॉजी से जुड़ी जानकारियों के लिए एक बार जरूर विजिट करें  www.tarangideas.com


★1. Keyword research करें।

दोस्तों जब भी कोई आर्टिकल आप लिखेंगे तो उस आर्टिकल से रिलेटेड आप कीवर्ड रिसर्च कर ले अब आप कहेंगे कि आखिरकार keywords क्या होते हैं।

दोस्तों keywords एक शब्द ya शब्दों के समूह होते हैं जो कि किसी भी users के द्वारा किसी particular topic को जानने के लिए सर्च किया जाता है अगर हम उदाहरण से समझे।

जैसे कि आपको SEO friendly article लिखने के बारे में जानकारी प्राप्त करनी थी तो आपने गूगल में अवश्य ही यही सर्च किया होगा कि - SEO friendly post kaise likhe.
तो आपने जो सर्च किया वही तो कीवर्ड है तो अगर आप भी कोई भी आर्टिकल को लिखते हैं तो इस इसी प्रकार से आपको कीवर्ड्स निकालने पड़ेंगे और keywords निकालने के लिए आपको बहुत सारी वेबसाइट या फिर कीवर्ड planner की आवश्यकता पड़ेगी।

अर्थात हमारे कहने का मतलब यही है कि जब भी आप किसी टॉपिक पर आर्टिकल लिखे तो उस टॉपिक के बारे में रिसर्च करें कि आखिरकार उस टॉपिक के कौन से वह keywords  जिसको कि लोग बहुत ही अधिक गूगल में सर्च करते हैं।

तो दोस्तों इस प्रकार आप अपनी पोस्ट को लिखने से पहले कीवर्ड रिसर्च जरूर कर ले तभी अपने किसी भी आर्टिकल को लिखें।


★2. User intent find करें।

User intent find करने का मतलब यही है कि आप जो भी आर्टिकल लिखें उस आर्टिकल को इस प्रकार लिखें जिससे कि आप के यूजर्स को एक सटीक जानकारी प्राप्त हो अर्थात आप यूजर्स के पसंद को ध्यान में रखकर आर्टिकल लिखें यूजर्स को आपके इस टॉपिक के बारे में ज्यादा पसंद आएगा।

अगर इसे आसान भाषा में समझे यूजर इंटेंट फाइंड करने का मतलब है कि यूजर कया सर्च कर रहा है वह क्या जानना चाहता है उसके बारे में सटीक जानकारी देना है यूजर इंटेंट फाइंड करना होता है इससे यही होगा की यूजर्स आपकी वेबसाइट को याद रखेंगे और जब भी कोई भी टॉपिक को वे सर्च करेंगे तो उस टॉपिक को सर्च करने के लिए आपकी वेबसाइट में एक बार जरूर आएंगे।

तो दोस्तों जब भी कोई भी आर्टिकल आप लिखे तो यूजर इंटेंट फाइंड करें और उस टॉपिक पर ज्यादा जानकारी दें जिसमें यूजर की रूचि हो जानने की।


★3. Synonym keywords डालें.

Synonym keywords वैसे कीवर्ड होते हैं जो कि आपके main topic से ही संबंधित होते हैं अगर हम इसे आसान भाषा में समझे तो जब आप किसी प्रमुख व्यक्ति के जीवनी लिखते हैं तो उनके जीवनी में, आप उनका जीवन परिचय के साथ साथ ,उनके पारिवारिक जीवन, उनकी रोज रोचक जानकारियां, उनके द्वारा किए गए महत्वपूर्ण कार्य ,इत्यादि चीजों को देते हैं उसी प्रकार जब कोई भी व्यक्ति गूगल में कुछ भी सर्च करता है तो वह अपने mean topic के साथ-साथ उस टॉपिक्स रिलेटेड और अधिक जानकारियां प्राप्त करना चाहता है।

तो आप जब भी कोई पोस्ट लिखें तो उस पोस्ट में जो आपका main keywords था जो tittles है उसके बारे में तो आप जानकारी देंगे साथ में उससे और अधिक पूरे detail में जानकारी देने के लिए आप दूसरे कीवर्ड का सहायता ले सकते हैं जैसे कि अभी आपने देखा कि SEO friendly post के बारे में मैंने यह आर्टिकल लिखा है फिर भी मैंने आपको थोड़ा सा SEO के बारे में भी बताया है उसी को हम synonym keywords कह सकते हैं।

★4. Focused and synonym keywords ko blog post mein dale.

दोस्तों आपका जो भी main keywords है और synonyms keywords है उसे आप अपने पोस्ट के किसी भी जगह पर repeat जरूर करें अर्थात आपने हमारे इस आर्टिकल में देखा ही होगा कि हमने अपना जो Mai facosed  keywords है- SEO friendly post kaise likhe उसे कई जगह पर रिपीट किया है एवं उसे हाईलाइट भी किया है।

तो आप भी जब भी कोई आर्टिकल लिखे तो अपने मेन फोकस्ड कीवर्ड को आर्टिकल में जरूर रिपीट करें इससे आपके आर्टिकल गूगल में बहुत जल्दी रैंक हो जाएंगे।



★5. H1 ,H2 mein focused keyboard dalen.

दोस्तों जब भी कोई आप अपने आर्टिकल लिखते हैं तो उस आर्टिकल में आप heading, subheading, title ,subtitle इत्यादि डालते ही होंगे तो जब भी आप इन सभी को डालें तो उसमें अपने main focus keyword को जिस पर आप अपने पोस्ट को rank कराना चाहते हैं उसे अवश्य ही डालें तभी आपकी वह पोस्ट गूगल में rank करेगी।

जैसा कि आप हमारे ही इस आर्टिकल को देख सकते हैं मैंने अपने heading subheading title सभी में अपने main focus keyword को जरूर enter किया है तभी आप हमारे इस पोस्ट को first page पर देख रहे हैं तो इसी प्रकार आप भी जब भी कोई पोस्ट लिखें तो अपने focused keyword को title subtitle heading subheading में अवश्य डालें।

★6. Permalink mein focused keyword dale.

जब भी आप अपने आर्टिकल को कंप्लीट कर लेते हैं तब आपको अपना permalink बनाने का ऑप्शन मिलता है जहां पर आप अपने permalink को बनाते हैं अर्थात वैसे लिंक जो कि गूगल में आप सबमिट करेंगे।

तो जब भी आप permalink बनाएं उस permalink में आप अपने जो main focus keyword है उसी को अपना permalink बनाएं अर्थात आप का  title health-related कुछ भी जानकारी दे रही है exempal के तौर पर अपनी लंबाई कैसे बढ़ाए तो इसमें आपका main keywords होगी लंबाई कैसे बढ़ाएं तो आप अपने permalink में यही डाल दे लंबाई कैसे बढ़ाएं।

इससे गूगल आपकी पोस्ट को जल्दी से जल्दी अपने पेज के सबसे ऊपर वाले जगह को देने में देरी नहीं लगाएगी अर्थात आपकी पोस्ट जल्दी गूगल में first page पर rank जाएगी।

★7. Description main focused keyword and synonym keywords dale.

दोस्तों जब भी आप अपने आर्टिकल को कंप्लीट कर लेते हैं उसके बाद आपको उस आर्टिकल से संबंधित डिस्क्रिप्शन लिखना पड़ता है और डिस्क्रिप्शन किसी भी पोस्ट का बहुत ही महत्वपूर्ण होता है।

क्योंकि गूगल किसी भी आर्टिकल को उसके डिस्क्रिप्शन से ही पहचान करती है अर्थात गूगल हमेशा post से ज्यादा महत्व डिस्क्रिप्शन को देती है और जब भी आप अपने आर्टिकल का डिस्क्रिप्शन लिखे तो उस डिस्क्रिप्शन में अपने मेन फोकस्ड कीवर्ड को एवं रिलेटेड कीवर्ड्स को भी अवश्य डालें।

ऐसा करने से आपकी पोस्ट जल्दी से जल्दी गूगल के फर्स्ट पेज पर rank करेगी और आपका पोस्ट seo फ्रेंड्ली बन जाएगी।

★8. First page wala article analysis करें।

दोस्तों जब भी आप अपने किसी भी टॉपिक पर आर्टिकल लिखें तो अपने इस आर्टिकल को लिखने से पहले गूगल में सर्च करें और देखें वहां पर कौन सी वेबसाइट फर्स्ट पेज पर rank कर रही है और उस वेबसाइट के पोस्ट को analyse करें अर्थात अच्छे से पढ़े।

और यह पता लगाएं कि उस पोस्ट में उसने किन चीजों में गलतियां की है और किन चीजों को क्लियर नहीं कर पाए हैं और आप जब भी अपने पोस्ट लिखें तो उस पोस्ट को उससे से ज्यादा बेहतर आर्टिकल लिखें तभी आपकी पेज गूगल पर अच्छे जगह पर rank करेगी एवं विजिटर्स भी उनकी वेबसाइट में ना जाकर आपकी वेबसाइट में आना ज्यादा पसंद करेंगे।

तो जब भी आप अब किसी भी टॉपिक पर आर्टिकल लिखे तो उस टॉपिक पर आप गूगल में सर्च करें और जो भी वहां पर फर्स्ट पेज पर rank कर रही वेबसाइट है उन वेबसाइटों को पोस्ट को एनालाइज कर ले उसके बाद ही अपने आर्टिकल को लिखें।

★9. Keyword stuffing na Kare.

दोस्तों जैसा कि मैंने ऊपर में कहा था कि आप अपने पोस्ट में अपने मेन फोकस्ड कीवर्ड एवं रिलेटेड कीवर्ड्स को रिपीट अवश्य ही करें मगर आपको इस बात का ध्यान रखना है कि आपको अपने कि keywords को एक लिमिट तक ही रिपीट करना है ना कि बहुत अधिक रिपीट कर देना है अगर आप अपने आर्टिकल में अपने फोरकास्ट कीवर्ड या फिर रिलेटेड कीबोर्ड को भी बहुत अधिक रिपीट कर देंगे तो वह keywords stuffing कहलायेगा।

तो आप जब भी अपना पोस्ट लिखे तो इस बात का ध्यान रखें कि आप बहुत अधिक बार अपने कीवर्ड्स को रिपीट ना करें एक लिमिट तक ही रिपीट करें।

★10. Apne post ka structure ढांचा बनाए।

दोस्तों जब भी आप अपना कोई भी टॉपिक पर आर्टिकल लिखें तो आप आर्टिकल लिखने से पहले अपने आर्टिकल का एक स्ट्रक्चर बनाले अर्थात आप जिस टॉपिक पर लिखना चाहते हैं उस टॉपिक पर आप किन चीजों को मुख्यता रूप से बताने वाले हैं उसे एक चैन की तरह बना ले कि आप सबसे पहले इसके बारे में जानकारी देंगे उसके बाद फिर इस टॉपिक पर, फिर इस टॉपिक पर तो उसी को हम पोस्ट का स्ट्रक्चर कहते हैं।

इसलिए जब भी आप अपना कोई भी आर्टिकल लिखे तो अपने आर्टिकल का एक बॉडी स्ट्रक्चर बना ले कि आपको सबसे पहले इस टॉपिक के इस पॉइंट को क्लियर करना है फिर इस पॉइंट को लेकर करना है।

★11. Good and attractive title डालें।

दोस्तों शुरू से ही मैंने कहा है और अब भी कहता हूं अब जब भी अपने पोस्ट को लिख लेते हैं तो उसमें एक टाइटल डालते हैं तो आप जब भी अपने पोस्ट के टाइटल  डाले तो वह एक अट्रैक्टिव होना चाहिए जिससे कि यूजर को लगे कि नहीं यह वाले वेबसाइट में मेरे को एक अच्छी जानकारी प्राप्त हो सकती है अच्छे से मेरे टॉपिक क्लियर हो सकती।

साथ में आपको अपने टाइटल को अट्रैक्टिव तो बनाना ही है एवं उसमें अपने main keywords को भी डाल देना है ताकि गूगल को भी आपकी पोस्ट समझ में आए और यूजर्स को भी आपकी पोस्ट अच्छी लगे।

★12. Good and attractive description dale.

दोस्तों डिस्क्रिप्शन का महत्व मैंने ऊपर में ही आपको बता दिया था लेकिन डिस्क्रिप्शन का और अधिक महत्व मैं आपको बताता हूं जब आप कोई भी आर्टिकल को लिखते हैं और उसमें डिस्क्रिप्शन डालते हैं तो जब भी आपकी कोई वेबसाइट की पोस्ट गूगल में rank करती है।

तो अब गूगल में आप का टाइटल और आपका डिस्क्रिप्शन ही यूजर्स को दिखता है और जब भी कोई users किसी topic को सर्च करता है और रिजल्ट नीचे आती है तो वह उन सभी वेबसाइट के टाइटल और वहां पर दी गई नीचे डिस्क्रिप्शन को पढ़ता है और तभी वह उसे जो भी टाइटल और डिस्क्रिप्शन पसंद आता है उसी वेबसाइट पर क्लिक करके पढ़ता है इसलिए आप जब भी अपने किसी भी पोस्ट को लिखे तो उसमें एक अट्रैक्टिव डिस्क्रिप्शन जरूर लिखें जोकि यूजर्स को आपकी वेबसाइट की तरफ अट्रैक्ट कर दें।

★13. Long content blog post likhe.

दोस्तों जब भी आप किसी टॉपिक पर आर्टिकल लिखे तो आप इतना अवश्य ही कोशिश करें कि आप उस टॉपिक को जितना अधिक से अधिक जानकारियों दे सके उस टॉपिक्स रिलेटेड आपकी आपका पोस्ट बहुत बड़ा हो जाए।

क्योंकि गूगल यूजर्स को वैसे ही आर्टिकल को देना ज्यादा पसंद करता है जिनमें किसी प्रमुख टॉपिक के बारे में ज्यादा से ज्यादा जानकारियां हो ताकि यूजर को पूरी जानकारी अच्छे से एक ही जगह पर मिल जाए इसलिए आप जब भी कोई आर्टिकल लिखे तो उसमें अधिक जानकारियों के साथ लिखें।

★14. Quality and unique content likhen.

जैसा कि ऊपर मैंने आपको कहा था कि आप जो भी कंटेंट लिखे वह बड़ी बड़ी होनी चाहिए अर्थात पूरी डिटेल्स के साथ होनी चाहिए साथ में आपको इस बात का ध्यान रखना है कि आपकी कंटेंट का लंबाई के साथ-साथ क्वालिटी भी अच्छी होनी चाहिए अगर आपने अपने आर्टिकल को बहुत लंबा लिख ली और क्वालिटी मेंटेन नहीं किया तो वह भी आपके लिए नुकसानदायक होगा।

इसलिए जब भी आपको भी आर्टिकल लिखें तो आप उसे आर्टिकल को यूनिक लिखे अर्थात आपने जिस प्रकार वास आर्टिकल को लिखा है उस प्रकाश से किसी व्यक्ति ने ना लिखा हो और आपके द्वारा लिखा गया आर्टिकल लोगों को पसंद आ जाए बस इतनी सी कोशिश करें आप।

★15. Coppy paste ना करें।

दोस्तों आप जो भी कंटेंट लिख रहे हैं वह हंड्रेड परसेंट यूनिक होना चाहिए अर्थात आप जितने भी कंटेंट लिखे जिस भी टॉपिक पर लिखे उस टॉपिक्स रिलेटेड जानकारी आप अपने शब्दों में ही लिखें किसी को भी या नहीं लगना चाहिए कि आपने किसी दूसरे की पोस्ट को चुरा कर अपने में लिखा है अर्थात।

आपने किसी दूसरे वेबसाइट से किसी के भी एक कंटेंट को कॉपी करके अपने वेबसाइट में पेस्ट कर लेना  यह यूजर्स को भी पसंद नहीं होगा एवं गूगल भी आपके ऊपर एक्शन ले सकता है इसलिए आप कभी भी कॉपी पेस्ट करके आर्टिकल ना लिखें।


★16. Important and related keywords bold Kare.

दोस्तों जब भी कोई भी आर्टिकल लिखते हैं आप तब आपकी आर्टिकल में कुछ ऐसे महत्वपूर्ण शब्द या फिर सेंटेंस आते होंगे जो कि यूजर्स को पढ़ना आवश्यक होती है वैसे शब्द और सेंटेंस को जरूर से जरूर bold कर दे।

जब भी आप अपने आर्टिकल को लिखें और उसमें आप अपने फोकस्ड कीवर्ड को रिपीट करते हैं तो आप अपने फोकस्ड कीवर्ड को भी बोल्ड कर दें इससे गूगल आपकी पोस्ट के उस बोल्ड लेटर को भी अवश्य पढ़ेगा जिससे कि वह आपकी पोस्ट को जल्दी जल्दी गूगल में rank कर देगा।

★17. Grammatical mistake na Kare.

दोस्तों जब भी आपको भी पोस्ट लिखते हैं तो उस पोस्ट को लिखते वक्त इस बात का ध्यान रखें कि आप कहीं भी ज्यादा ग्रामेटिकल मिस्टेक ना करें क्योंकि ग्रामेटिकल मिस्टेक्स गूगल तुरंत detect कर लेते हैं और  ग्रामेटिकल मिस्टेक देखने पर वह उस वेबसाइट को जल्दी first page पर नहीं करता है जिसमें बहुत अधिक ग्रामेटिकल मिस्टेक होते हैं।

और जब किसी यूजर्स को आपकी वेबसाइट में लिखे गए कंटेंट में कोई भी ग्रामेटिकल मिस्टेक पता चल जाता है तो आपकी वेबसाइट से यूजर्स का ट्रस्ट खत्म हो जाता है वह आपके वेबसाइट पर विश्वास नहीं कर पाता है इसलिए जब भी आपको भी आर्टिकल लिखे तो ग्रामेटिकल मिस्टेक ना करें ज्यादा।

★18. Short paragraph likhe.

दोस्तों आप जानते हैं कि गूगल हमेशा अपने एल्गोरिदम को चेंज करते ही रहता है इस बार गूगल वेब 2.0 में  अपना एल्गोरिदम में सबसे बड़ा चेंजिंग ही किया है कि।

जब भी कोई पोस्ट मैं कोई भी पैराग्राफ बहुत अधिक लंबी लंबी लिखी होती है वैसे पोस्ट को गूगल काम पसंद करता है और यूजर्स भी वैसे पोस्ट को पढ़ना में Bor Feel करते हैं इसलिए आप जब भी कोई भी आर्टिकल लिखे तो उसमें छोटे छोटे पैराग्राफ ही लिखे ज्यादा बड़ा बड़ा पैराग्राफ ना लिखें।

यह यूजर्स और गूगल दोनों को छोटे पैराग्राफ पसंद होते हैं इसलिए आप छोटे छोटे पैराग्राफ लिखें।

★19. Internal linking Kare.

दोस्तों इंटरलिंकिंग का मतलब होता है आपने ही वेबसाइट के अलग-अलग पोस्ट के लिंक को एक साथ जोड़ना उसी को इंटरलिंकिंग कहा जाता है जैसे कि आप हमारे इस पोस्ट में बहुत सारे लिंक देखे होंगे जो कि मेरे ही वेबसाइट के पोस्ट के हैं तो वैसे लिंक को ही इंटरलिंकिंग कहा जाता है।

आप जब भी अपना कोई भी पोस्ट लिखते हैं और उस पोस्ट अर्थात उस आर्टिकल से रिलेटेड कोई आर्टिकल है आपके पास जिसे यूजर्स को और अधिक जानकारी प्राप्त हो जाएगी तो आप उसे अवश्य ही अपने पोस्ट के साथ एक दूसरे के साथ इंटरलिंकिंग कर दे।

★20. External linking Kare.

दोस्तों जब आप कोई भी आर्टिकल लिखते हैं और उस आर्टिका से रिलेटेड भी आप जानकारी देते हैं कभी आपको लगता है कि यहां पर इस टॉपिक को क्लियर करने के लिए एक और बेस्ट आर्टिकल की जरूरत पड़ेगी मगर उस टॉपिक से रिलेटेड आपने आर्टिकल नहीं लिखा है तो आप उस टॉपिक से संबंधित किसी भी orther वेबसाइट की आर्टिकल के लिंक को वहां लगा दे।

ऐसा करने से आपका कोई नुकसान नहीं होगा इससे आपको जहां तक की seo बेहतर ही होगा और आपको फायदे ही मिलेंगे इसलिए आप दूसरे वेबसाइट को किसी भी पोस्ट के लिंक को अपने वेबसाइट में लगाने से बिल्कुल भी ना कतरा बेहिचक दूसरे किसी भी अच्छी पोस्ट को अपनी वेबसाइट में जरूर लगाएं।

★21. Purane post mein nai post ka link dale.

दोस्तों जब भी आप कोई पोस्ट लिखते हैं और आपको लगता है कि आपने उस पोस्ट से रिलेटेड अर्थात उस आर्टिकल से रिलेटेड पहले भी कोई आर्टिकल लिखा है जिसमें आपके इस पोस्ट के लिंग को डाल देने से उस पोस्ट की वैल्यू बढ़ जाएगी।

तो आपको बेहिचक बिना कुछ सोचे फटाक से अपने नए पोस्ट के लिंक को अपने पुराने पोस्ट में डाल देना चाहिए इससे आपके पुराने पोस्ट एवं नए पोस्ट दोनों को ही फायदे होंगे एवं गूगल को भी इंटरलिंकिंग बहुत ही पसंद होती है।

★22. Number aur bullet pin use Kare.

दोस्तों जब भी आप किसी टॉपिक पर आर्टिकल लिखते हैं तब आपको कुछ ऐसी जानकारियां देनी पड़ती है जिसे लोगों को एक सीरियल वाइज ही बतानी पड़ती है अगर ऐसी कोई परिस्थिति बनती है तो आप अपने पोस्ट में नंबर एवं बुलेट बीन का प्रयोग करें इससे यूजर्स को उस पार्टिकुलर टॉपिक के बारे में और अधिक अच्छे से समझ में आती है।

साथ में गूगल को भी वैसे वेबसाइट के पोस्ट ज्यादा पसंद आते हैं जिनमें नंबर और बुलेट पिन का प्रयोग किया हुआ होता है।

★23. Multimedia ka prayog Kare.

जब भी आप अपने पोस्ट को लिखते हैं और उसमें बहुत सारी जानकारी देते हैं तो उसमें आप अपने पोस्ट के अपने टॉपिक को और अधिक क्लियर करने के लिए आप उसमें मल्टीमीडिया का प्रयोग करें अर्थात।

आप अपने आर्टिकल में अपने टॉपिक से रिलेटेड यूट्यूब के वीडियोस को डाल दे, अच्छी-अच्छी इमेज डाल दे इसे यूजर्स का ध्यान और मन दोनों लगा रहेगा आपकी वेबसाइट में और वह आपकी वेबसाइट में आना ज्यादा पसंद करेंगे।

★24. Image optimizer करें।

दोस्तों जब भी आप अपना कोई भी इमेज को डाले तो उस इमेज में  इमेज की प्रॉपर्टीज अर्थात आप जिस टॉपिक पर इमेज डाल रहे हैं उस टॉपिक पर आपको एक प्रॉपर्टीज डालनी पड़ती है अर्थात आपको इमेज पर क्लिक करेंगे तो आपको एक प्रॉपर्टीज का ऑप्शन मिलेगा आपको प्रॉपर्टीज पर क्लिक करना है और उसमें उस इमेज के बारे में कुछ जानकारियां देनी है तो आप उस इमेज के बारे में प्रॉपर्टीज में जाकर जानकारियां जरूर दे दे।

उसके बाद आप अपने इमेज के लिए एक डिस्क्रिप्शन लिखें ताकि लोगों को पता चल जाए कि आपने जो इमेज दिया उसमें क्या जानकारियां दी है एवं किन चीजों के बारे में बताया है।

★25. Article update karte rahe.

दोस्तों जब भी आप अपने आर्टिकल को कंप्लीट करके और पब्लिश कर देते हैं तो उसमें आप यह काम अवश्य करें आप समय-समय पर जब भी आपको समय मिले एवं जब भी उस टॉपिक के बारे में कुछ नई जानकारियां मिले  तो आप अपने पोस्ट में उसे जरूर डालें और उसे अपडेट करते रहें।

ऐसे करने से आपकी वेबसाइट के पोस्ट भी गूगल में अच्छी तरह से rank करेगी एवं यूजर्स भी आपके वेबसाइट में जब भी आएंगे तो उन्हें नई नई चीज जाने को मिलेगी तो फिर से दोबारा आप ही के वेबसाइट में आने के लिए विवश होते रहेंगे।

★26. Social media sharing करें।

दोस्तों जब भी आपको भी आर्टिकल लिख लेते हैं तो आप अपने उस पोस्ट को अपने सोशल मीडिया पर अवश्य शेयर करें उसके बहुत सारे फायदे हैं।

एक तो आप की पोस्ट पर इंसटेंट बहुत सारे विजिटर्स मिल जाएंगे एवं साथ में आपको एक अच्छा सा बैकलिंक भी मिल जाएगा अर्थात आपकी पोस्ट की एक इंटरलिंकिंग हो जाएगी जोकि गूगल बहुत अधिक देखता है कि इस वेबसाइट के पोस्ट के को कितना अधिक इंटरलिंकिंग किया गया है इसलिए आप जब भी कोई आर्टिकल लिखे तो उस आर्टिकल को अधिक से अधिक सोशल मीडिया पर शेयर करें।


Conclusion.

आपने आज के इस लेख में जाना-
•(26 टिप्स) SEO friendly article kaise likhe, SEO friendly पोस्ट कैसे लिखें?
•SEO friendly article kaise likhe. SEO friendly blog पोस्ट कैसे लिखें।
•26 tips to SEO friendly article kaise likhe.


दोस्तों तो आपको आज के आर्टिकल में दी गई सारी जानकारी अच्छी लगी होगी एवं अच्छे से समझ में आ गया होगा तो आप हमारे इस आर्टिकल को अपने दोस्तों के साथ अवश्य शेयर करें।

Post a comment

1 Comments

  1. Wow nice information sir thanks for sharing your experience.

    ReplyDelete